jo dil ke aaine mein ho wo hi pyar

Jo Dil Ke Aaine Mein Ho Wo Hi Pyar

Jo Dil Ke Aaine Mein Ho Wo Hi Pyar Ke Kaabil Hai,
Warna Deewar Ke Kabil To Har Tasveer Hoti Hai.
जो दिल के आईने में हो वो ही प्यार के काबिल है,
वरना दीवार के काबिल तो हर तस्वीर होती है।

Khayalon Mein Uske Maine Bita Di Zindgi Saari,
Ibaadat Kar Nahi Paya Khuda Naraaj Mat Hona.
​खयालों में ​उसके मैंने बिता दी ज़िंदगी सारी,
​​इबादत कर नहीं पाया खुदा नाराज़ मत होना​।

from
Kabhi Tum Aa Jaao Khayalon Mein

Kabhi Tum Aa Jaao Khayalon Mein

Kabhi Tum Aa Jaao Khayalon Mein Aur Muskura Doon Main,
Ise Gar Ishq Kahte Hain Toh Haan Mujhe Ishq Hai Tumse.
कभी तुम आ जाओ ख्यालों में और मुस्कुरा दूँ मैं,
इसे गर इश्क़ कहते हैं तो हाँ मुझे इश्क़ है तुमसे।

Haath Par Haath Rakha Usne Toh Malum Hua,
Ankahi Baat Ko Kis Tarah Suna Jata Hai.
हाथ पर हाथ रखा उसने तो मालूम हुआ,
अनकही बात को किस तरह सुना जाता है।

from
Izhar-e-Tamanna Hi Tauheen-e-Tamanna Hai

Izhar-e-Tamanna Hi Tauheen-e-Tamanna Hai

Izhar-e-Tamanna Hi Tauheen-e-Tamanna Hai,
Tum Khud Hi Samajh Jaao Main Naam Nahi Lunga.
इज़हार-ए-तमन्ना ही तौहीन-ए-तमन्ना है,
तुम खुद ही समझ जाओ मैं नाम नहीं लूँगा।

Chhu Jaate Ho Mujhe Har Roj Ek Naya Khwaab Bankar,
Yeh Duniya Toh Khamkha Kahti Hai Ke Tum Mere Kareeb Nahi.
छू जाते हो तुम मुझे हर रोज एक नया ख्वाब बनकर,
ये दुनिया तो खामखां कहती है कि तुम मेरे करीब नहीं।

from
Bas Tumhein Paane Ki Tamanna

Bas Tumhein Paane Ki Tamanna

Bas Tumhein Paane Ki Tamanna Nahi Rahi,
Mohabbat Toh Aaj Bhi Tumse Beshumar Karte Hain.
बस तुम्हेँ पाने की तमन्ना नहीं रही,
मोहब्बत तो आज भी तुमसे बेशुमार करते हैं।

Saamne Baithe Raho Dil Ko Qaraar Aayega,
Jitnaa Dekhenge Tumhein Utna Hi Pyar Aayega.
सामने बैठे रहो दिल को करार आएगा,
जितना देखेंगे तुम्हें उतना ही प्यार आएगा।

from
.
Mere Junoon Ko Zulf Ke Saaye Se

Mere Junoon Ko Zulf Ke Saaye Se

Mere Junoon Ko Zulf Ke Saaye Se Dur Rakh,
Raste Mein Chhav Paa Ke Musafir Thhehar Na Jaye.
मेरे जुनूँ को ज़ुल्फ़ के साए से दूर रख,
रस्ते में छाँव पा के मुसाफ़िर ठहर न जाए।

Diye Hain Zakhm Toh Marham Ka Takalluf Na Karo,
Kuchh Toh Rahne Do Meri Zaat Pe Ehsaan Apna.
दिए हैं ज़ख़्म तो मरहम का तकल्लुफ न करो,
कुछ तो रहने दो मेरी ज़ात पे एहसान अपना।

from
Kahte Hain Ummid Pe Jeeta Hai

Kahte Hain Ummid Pe Jeeta Hai

Kahte Hain Ummid Pe Jeeta Hai Zamana,
Kya Kare Jiski Koi Ummid Nahi Hai.
कहते हैं उम्मीद पे जीता है जमाना,
क्या करे जिसकी कोई उम्मीद नहीं है।

Haath Tute Maine Gar Chhedi Ho Zulfein Aap Ki,
Aap Ke Sar Ki Kasam Baad-e-Sabaa Thi Main Na Tha.
हाथ टूटें मैंने गर छेड़ी हों ज़ुल्फ़ें आप की,
आप के सर की क़सम बाद-ए-सबा थी मैं न था।

from
Mera Dost Mujhse Yeh Kah Kar

Mera Dost Mujhse Yeh Kah Kar

Mera Dost Mujhse Yeh Kah Kar Dur Chala Gaya Faraz,
Ke Dosti Dur Ki Achhi Roti Tandoor Ki Achhi.
मेरा दोस्त मुझसे यह कह कर दूर चला गया फ़राज़,
कि दोस्ती दूर की अच्छी रोटी तंदूर की अच्छी।

Khate Rahe Fareb Sambhalte Rahe Kadam,
Chalte Rahe Junoon Ka Sahara Liye Huye.
खाते रहे फरेब संभलते रहे कदम,
चलते रहे जुनूं का सहारा लिये हुए।

from
Andheri Raat Ke Pardon

Andheri Raat Ke Pardon

Inhin Gam Ki Ghataaon Se Khushi Ka Chaand Niklega,
Andheri Raat Ke Pardon Mein Din Ki Roshni Bhi Hai.
इन्हीं गम की घटाओं से खुशी का चांद निकलेगा,
अंधेरी रात के पर्दों में दिन की रौशनी भी है।

Woh Mila Toh Kahta Tha Ke Pilot Banunga Faraz,
Halat Aisi Hai Ki Makkhi Bhi Udayi Nahi Jati.
वो मिला तो कहता था कि पायलट बनूँगा फ़राज़,
हालत ऐसी है की मक्खी भी उड़ाई नहीं जाती।

from
Puchha Na Zindagi Mein Kisi Ne

Puchha Na Zindagi Mein Kisi Ne

Puchha Na Zindagi Mein Kisi Ne Bhi Dil Ka Haal,
Ab Shahar Bhar Mein Zikr Meri Khudkushi Ka Hai.
पूछा न जिंदगी में किसी ने भी दिल का हाल,
अब शहर भर में ज़िक्र मेरी खुदकुशी का है।

Bhule Hain Rafta-Rafta Unhein Muddaton Mein Hum,
Kishton Mein KhudKushi Ka Mazaa Hum Se Puchhiye.
भूले हैं रफ्ता-रफ्ता उन्हें मुद्दतों में हम,
किश्तों में खुदकुशी का मज़ा हम से पूछिए।

from
Hajaar Baar Jo Manga Karo

Hajaar Baar Jo Manga Karo

Hajaar Baar Jo Maanga Karo Toh Kya Haasil,
Dua Wahi Hai Jo Dil Se Kabhi Nikalti Nahi.
हज़ार बार जो माँगा करो तो क्या हासिल,
दुआ वही है जो दिल से कभी निकलती है।

Ulfat-e-Yaar Mein Khuda Se Aur Maangun Kya,
Yeh Dua Hai Ke Tu Duaon Ka Bhi Mohtaaj Na Ho.
उल्फत-ए-यार में खुदा से और माँगू क्या,
ये दुआ है कि तू दुआओं का मोहताज न हो।

from