26 January Republic Day Shayari

26 january shayari,republic day shayari,26 january shayari in hindi 2020,26 january shayari in english,26 january ki shayari,26 january ke shayari,26 january shayari in hindi,26 january shayari in hindi 2020,republic day shayari in hindi 2020

republic day shayari in english

republic day shayari in english

LEHRAYEGA TIRANGA AB SAARE ASMAAN PAR
BHARAT KA NAAM HOGA SAB KI JUBAAN PAR
LE LENGE USKI JAAN YA KHELENGE APNI JAAN PAR
KOI JO UTHAYEGA AANKH HAMARE HINDUSTAAN PAR
26 January Shayari in Hindi

लहराएगा तिरंगा अब सारे आस्मां पर
भारत का नाम होगा सब की जुबान पर
ले लेंगे उसकी जान या खेलेंगे अपनी जान पर
कोई जो उठाएगा आँख हमारे हिन्दुस्तान पर
26 January Shayari Image

NA JIYO DHARM KE NAAM PAR
NA MARO DHARM KE NAAM PAR
INSANIYAT HI HAI DHARM WATAN KA
BUS JIYO WATAN KE NAAM
26 जनवरी शायरी

ना जियो धर्म के नाम पर ना मरो धर्म के नाम पर
इंसानियत ही है धर्म वतन का बस जियो वतन के नाम
26 January Shayari Par Shayari

AAN DESH KI SHAAN DESH KI, DESH KI HUM SANTAAN HAI
TEEN RANGO SE RANGA TIRANGA APNI YE PAHECHAN HAI
आन देश की शान देश की देश की हम संतान है
तीन रंगों से रंगा तिरंगा अपनी ये पहेचान है

26 january love shayari

ज़माने भर में मिलते है आशिक कई
मगर वतन से खुबसूरत कोई सनम नहीं होता
नोटों में भी लिपट कर सोने में भी सिमट कर मरे हे कई
मगर तिरंगे से खुबसूरत कोई कफ़न नहीं होता

26 january attitude shayari

26 january attitude shayari

जनता जब भावनाओं में बहकर मतदान करती है,
तो अपने साथ खुद अन्याय करती है.

26 january fb status in hindi

भारतीय लोकतंत्र की जड़ों को जातिवाद,
व्यक्तिवाद, क्षेत्रवाद, भाषावाद
और पार्टीवाद ने अपूर्णीय क्षति पहुंचाई है.

लोकतंत्र तब दर्द से कराह उठता है,
जब अच्छे लोग निष्क्रिय बनकर
तमाशा देखने वाले दर्शक बन जाते हैं.

.
short shayari on republic day in hindi

short shayari on republic day in hindi

सत्ता अगर बुरे लोगों के हाथों की कठपुतली बन जाए,
तो लोकत्रंत्र एक मजाक बनकर रह जाता है.
कमजोर लोकतंत्र, जनता के दुखों का कारण होता है.

संविधान निर्माण के समय अक्सर गलतियाँ हो जाती है,
जिन्हें ठीक करना भावी पीढ़ी का दायित्व हो जाता है.

loktantra me is baat ka dhyan

लोकतंत्र में इस बात का ध्यान रखना चाहिए
कि सत्ता में बैठने वाले के पास विध्वंसक शक्तियाँ न हो.
जिस लोकतंत्र में स्त्री और पुरुष के हितों का
बराबर ध्यान न रखा गया हो, वह केवल नाम का लोकतंत्र है.

26 january par shayari

26 january par shayari

देश से बढ़कर न धर्म है, न जाति,
न भाषा, न राज्य, भारत भूमि में
हीं हमने जन्म पाया है.
और इसी धरती पर हमारा पालन-पोषण हुआ है.

desh ka samvidhan

किसी देश के संविधान में समय
के साथ जब सुधार नहीं किए जाते हैं,
तब उस देश में लोकतान्त्रिक
मूल्यों का हनन होने लगता है.

26 january ki shayari in hindi

26 january ki shayari in hindi

जागरूक जनता हीं लोकतंत्र में
अपने कर्तव्यों को खुद निभाती है,
और जनता के द्वारा निभाए गए
कर्तव्य हीं जनता के अधिकारों की रक्षा करते हैं.