Barish Shayari

Barish Shayari (In Hindi) Rain Shayari. Rain has often played a romancing factor in Barish shayari to entwine emptiness and contentment together. popular sharis on barish, barsaat, pani symbolizing a multitude of emotions from a gentle sprinkling to a torrid downpour. Barish or barsaat can be both, life giving as well as death dealing, subtly links all aspects of life. Please send us your generous inputs and baaarish shers o shayari on barish

barish par shayari hindi mai

barish par shayari hindi mai

ग़म की बारिश ने भी तेरे नक़्श को धोया नहीं
तू ने मुझ को खो दिया पर मैं ने तुझे खोया नहीं.
Gam Ki Barish Ne Bhi Tere naksh Ko Dhoya Nahi,
Tu Ne Mujh Ko Kho Diya Par Me Ne Tujhe Khoya Nahi

सुना है बारिश में दुआ क़बूल होती है
अगर हो इज्जाजत तो मांग लू तुम्हे
Suna Hai Barish Me Duwa kabul Hoti Hai,
Agar Ho Ejajat To Mang Lu Tumhe

romantic barish shayari for girlfriend

romantic barish shayari for girlfriend

अबके बरसात की रुत और भी भड़कीली है
जिस्म से आग निकलती है, क़बा गीली है.
Abke Barst Ki Rut Aur Bhi Bhdkili Hai
Jism Se Aag Niklti Hai Kaba Gili Hai

बरसात की भीगी रातों में फिर कोई सुहानी याद आई
कुछ अपना ज़माना याद आया कुछ उनकी जवानी याद आई
Barsat Ki Bhigi Raton Me Fir Koi Suhani Yad Aai
Kuch Apna Zamana Yad Aaya Kuch Unki Jvani Yad Aae

romantic barish shayari for boyfriend

romantic barish shayari for boyfriend

सीने में समुन्दर के लावे सा सुलगता हूँ
मैं तेरी इनायत की बारिश को तरसता हूँ.
Sene Me Samundar Ke lave Sa Sulagta Hun
Me Teri Enayat Ki Barish Ko Trasta Hun

बरसात का बादल तो दीवाना है क्या जाने
किस राह से बचना है किस छत को भिगोना है
Barsat Ka Badal To Devana Hai Kya Jane
Kis Rah Se Bachna Hai Kis Chat Ko Bhigona Hai

barish-romantic-shayari-status

barish romantic shayari status

बरसात का मज़ा तेरे गेसू दिखा गए,
अक्स आसमान पर जो पड़ा अब्र छा गए.
Barsat Ka Maja Tere Gesu Dikha Gaye,
Aksh Aasman Par Jo Pada Abra Cha Gaya

भला काग़ज़ की इतनी कश्तियाँ हम क्यों बनाते हैं,
न वो गलियाँ कहीं हैं अब न वो बारिश का पानी है.
Bhla Kagaj Ki Etni Kastiyan Hum Kyu Bnate Hai,
Na Vo Galiyan Kahi Hai Ab na Vo Barish Ka Pani Hai.

.
suhana-mausam-shayari

suhana mausam shayari

तुम्हारे शहर का मौसम का मज़ा बड़ा सुहाना लगे
मै एक साम चुरा लूं अगर बुरा ना लगे
सुहाना मौसम शायरी

मासूम मोहब्बत का बस इतना फसाना है,
कागज़ की हवेली है बारिश का ज़माना है.
Masum Mohabbat Ka Bas Itna Fsana Hai,
Kagaz Ki Hveli Hai Barish Ka Jamana Hai.

गुल तेरा रंग चुरा लाए हैं गुलज़ारों में
जल रहा हूँ भरी बरसात की बौछारो में.
Gul Tera Rang Chura laye Hai Guljaron Me,
Jal Raha Hun Bhari Barsat Ki Baucharo Me

mere-sath-barish-shayari

mere sath barish shayari

अभी तो खुश्क़ है मौसम,बारिश हो तो सोचेंगे
हमें अपने अरमानों को,किस मिट्टी में बोना है.
Abhi To Khusk Hai Mausam Barish Ho To Sochege,
Hume Apne Armano Ko Kis Mitti Me Bona Hai

रईसों के वास्ते बारिश ख़ुशी की बात सहीं
मुफलिस की छत के लिये इम्तेहान होता है.
Rahison Ke Vaste Barish Khusi Ki Bat Sahi,
Muflis Ke Chat Ke Liye Emtehan Hota Hai

कोई तो बरसात ऐसी हो जो तेरे संग बरसे
तनहा तो मेरी आँखे हर रोज़ बरसती है