Gussa Shayari

Gussa Shayari (Hindi) Narazgi Shayari. No matter how old we get, we'll always remain little in the eyes of our mothers. And rightly so. They feed us, nurture us, protect us and prepare us to face this big, bad world. So, I attempted to express the emotions of Indian moms with a series of shayaris. Reed Gussa Shayari In Hindi and Narazgi Shayari

gusse wali shayari hindi

ggusse wali shayari hindi

sirf iske hont kagaz par bana deta hoon
khud bana leti hai honto par hasi apni jagah
सिर्फ इसके होंट कागज़ पर बना देता हूँ
खुद बना लेती है होंठों पर हसी अपनी जगह

1 safar main koi dubara nahi mil sakta
ab dubara teri chahat nahi ki ja sakti
1 सफ़र मैं कोई दुबारा नहीं मिल सकता
अब दुबारा तेरी चाहत नहीं की जा सकती

mujh se nafrat wajib hai tumhe
ye na karoge to mohabbat ho jayegi
मुझ से नफरत वाजिब है तुम्हे
ये न करोगे तो मोहब्बत हो जायेगी

gussa shayari for husband

gussa shayari for husband

mohabbat ek khusbo hai jo hamesha saath chalti hai
koi insaan tanahi main bhi akela nahi hota
मोहब्बत एक खुसबो है जो हमेशा साथ चलती है
कोई इंसान तनहि मैं भी अकेला नहीं होता

ishq ka chut ka kuch dil pe asar ho to sahi
dard kam ho ye zayda ho par ho to sahi
इश्क़ का चुत का कुछ दिल पे असर हो तो सही
दर्द कम हो ये ज़ायदा हो पर हो तो सही

apne hi samjhte hai tumhe diljana hum tumko
dushman ko kabhi dil main rakah hi nahi hai
अपने ही समझते है तुम्हे दिलजाना हम तुमको
दुश्मन को कभी दिल मैं रकह ही नहीं है

gussa shayari in hindi for boyfriend

gussa shayari in hindi for boyfriend

zaruri to nahi zubaan se kahe dil ki baat
zubaan ek aur bhi hoti hai izhaar mohabbat ki
ज़रूरी तो नहीं जुबां से कहे दिल की बात
जुबां एक और भी होती है इज़हार मोहब्बत की

hoti hai mohabbat main kuch raaz ki baten
aise hi to khel main haara nahi jata
होती है मोहब्बत मैं कुछ राज़ की बातें
ऐसे ही तो खेल मैं हारा नहीं जाता

na tol meri mohabbat ko apni dillagi se
dekh akr aksar meri mohabbat ko tarazu toot jate hai
ना तोल मेरी मोहब्बत को अपनी दिल्लगी से
देख आकर अक्सर मेरी मोहब्बत को तराजू टूट जाते है

barbad-shayari

barbad shayari

उसकी हसरत है मुझे बर्बाद होते देखे
और मेरी तमन्ना है की में आबाद हो जाऊ
गुस्सा शायरी

.
dost-naraz-shayari

dost naraz shayari

इतना भी हमसे नाराज ना हुआ करो
थोड़े बुरे जरूर है पर बेवफा नही
गुस्सा शायरी