hindi story, कहानी

हलो दोस्तों (Hindishayariapp.com ) के ( hindi story, कहानी- स्टोरी ) पेज पे आप का स्वागत है, दोस्तों उम्मीद करता हूँ की आप को पोस्ट अच्छे लगेंगे - धन्यवाद

Sache Pyar ki Kahani

दिल छू लेगी ये Storyएक बार जरूर पढें
Sacha Pyar Love Story
. एक 14 साल के लड़के को अपनी ही क्लास की लड़की जिसकी उम्र 10 साल थी,से प्यार हो गया पर वो कह नही पा रहा था क्योकि वो लड़की अमीर थी।.....वह लड़की बहुत ही खुबसूरत थी।.....वो कई बार अपने प्यार का इजहार करना चाहता था पर बार बार उसे अपनी गरीबी का एहसास हो जाता था तभी वो कभी कह ना सका।......
लड़की के लिये उसके दिल मे प्यार और बढ़ता गया।.....दिन बीतते गये. स्कूल का आखिरी दिन आ गया।......लड़का अपने घर से स्कूल आ रहा था तभी उसे रास्ते मे उसी लड़की की फोटो मिली। लड़का बहुत खुश हुआ,और उसे अपने प्यार की आखिरी निशानी समझ कर रख लिया।.....
समय बीतता गया लड़का बड़ा होकर उस लड़की को जिंदगी भर तलासता रहा पर वो ना मिली।.....कुछ दिनो बाद लड़के की शादी एक खुबसुरत लड़की से हो गयी। लकिन वो आज भी लड़की से प्यार करता था।......एक दिन वो उसी लड़की की फोटो देख रहा था तो उसकी पत्नी ने पुछा" कि ये कौन है और आपको कहां से मिली!?"
लड़के ने कहा कि तुम इसे जानती हो? लड़की ने कहा "ये मेरी बचपन की फोटो है । मै इक लड़के से प्यार करती थी और उसे देने जा रही थी पर रास्ते मे खो गयी थी। शायद भगवान को मेरा प्यार मंजूर ना था।"लड़के ने उस लड़के का नाम पूछा और कहा कि तुम आज भी उससे प्यार करती हो?लड़की ने नाम बताया और कहा मै उसके सिवाय और किसी से प्यार नही करती".....
लड़के ने नाम सुना और रोते हुये अपनी बचपन की फोटो दिखायी और कहा कि क्या ये ही वो लड़का हैँ....लड़की ने कहा हां तो क्या आप ही वो......???दोनो अपनी 2 किस्मत पे रोकर खुश होते है कि उन्हे अपना प्यार मिल गया..... अगर प्यार सच्चा हो तो खुदा को भी उसे मिलाना पड़ ता है......

from hindi story, कहानी

jeevan ki seekh

छोटी सीख जीवन की .
एक घर के पास काफी दिन एक बड़ी इमारत का काम चल रहा था। वहा रोज मजदुरों के छोटे बच्चे एक दुसरों की शर्ट पकडकर रेल-रेल का खेल खेलते थे।
रोज कोई इंजिन बनता और बाकी बच्चे डिब्बे बनते थे। इंजिन और डिब्बे वाले बच्चे रोज रोज बदल जाते, पर केवल चङ्ङी पहना एक छोटा बच्चा हाथ में रखा कपड़ा घुमाते हुए रोज गार्ड ही बनता था। उनको रोज़ देखने वाले एक व्यक्ति ने कौतुहल से गार्ड बनने वाले बच्चे को बुलाकर पुछा
बच्चे तुम रोज़ गार्ड बनते हो ! क्या तुम्हें कभी इंजिन, कभी डिब्बा बनने की इच्छा नहीं होती?" इस पर वो बच्चा बड़े प्यार से मुस्कुराते हुवे बोला - "बाबूजी, मेरे पास पहनने के लिए कोई शर्ट नहीं है। तो मेरे पिछले वाले बच्चे मुझे कैसे पकड़ेंगे ? और मेरे पिछे कौन खड़ा रहेगा ? इसलिए मैं रोज गार्ड बनकर ही इस खेल में हिस्सा लेता हुँ। ये बोलते समय मुझे उसके आँखों में जरा सा पानी दिखाई दिया। न जाने क्यों पर आज जाने अनजाने वो बच्चा ही मुझे जीवन का एक बड़ा पाठ पढ़ा गया।
आपका अपना जीवन कभी भी परिपूर्ण नहीं होता। उस में कोई न कोई कमी जरुर रहेगी। वो बच्चा माँ-बाप से ग़ुस्सा होकर रोते हुए बैठ सकता था। वैसे न करते हुए उसने परिस्थितियों का समाधान ढूंढा। हम और आप अपने जीवन में छोटी छोटी बातों पर हमेशा रोते ही रहते है ?
जैसे कभी अपने साँवले रंग के लिए, कभी छोटे क़द के लिए, कभी पड़ौसी की कार, कभी पड़ोसन के गले का हार, कभी अपने कम मार्क्स, कभी अंग्रेज़ी, कभी पर्सनालिटी, कभी नौकरी मार तो कभी धंदे में मार इत्यादि इत्यादि। सार : हमें सबको इससे बाहर आना पड़ता है।
ये ही जीवन है, हमें इसे ऐसे ही जीना पड़ता है।
जो जीवन हम जी रहे हे उसमें सदा खुश रहे प्रसन्न रहे। किसी में कुछ तो किसी में कुछ कमियां हम सभी में होती है पर उन कमियों को नजरअंदाज करते हुवे जीवन का आनंद लेने में ही असली मज़ा हैं।
Hindi Story, कहानी, Story, Hindi Kahani, Kahaniya, Hindi Kahaniya, Story In Hindi

from hindi story, कहानी

motivational story in hindi

एक मेहनती और ईमानदार नौजवान बहुत पैसे कमाना चाहता था क्योंकि वह गरीब था और बदहाली में जी रहा था। उसका सपना था कि वह मेहनत करके खूब पैसे कमाये और एक दिन अपने पैसे से एक कार खरीदे। जब भी वह कोई कार देखता तो उसे अपनी कार खरीदने का मन करता।

कुछ साल बाद उसकी अच्छी नौकरी लग गयी। उसकी शादी भी हो गयी और कुछ ही वर्षों में वह एक बेटे का पिता भी बन गया। सब कुछ ठीक चल रहा था मगर फिर भी उसे एक दुख सताता था कि उसके पास उसकी अपनी कार नहीं थी। धीरे – धीरे उसने पैसे जोड़ कर एक कार खरीद ली। कार खरीदने का उसका सपना पूरा हो चुका था और इससे वह बहुत खुश था। वह कार की बहुत अच्छी तरह देखभाल करता था और उससे शान से घूमता था।

एक दिन रविवार को वह कार को रगड़ – रगड़ कर धो रहा था। यहां तक कि गाड़ी के टायरों को भी चमका रहा था। उसका 5 वर्षीय बेटा भी उसके साथ था। बेटा भी पिता के आगे पीछे घूम – घूम कर कार को साफ होते देख रहा था। कार धोते धोते अचानक उस आदमी ने देखा कि उसका बेटा कार के बोनट पर किसी चीज़ से खुरच – खुरच कर कुछ लिख रहा है। यह देखते ही उसे बहुत गुस्सा आया। वह अपने बेटे को पीटने लगा। उसने उसे इतनी जो़र से पीटा कि बेटे के हाथ की एक उंगली ही टूट गयी। दरअसल वह आदमी अपनी कार को बहुत चाहता था और वह बेटे की इस शरारत को बर्दाश्त नहीं कर सका । बाद में जब उसका गुस्सा कुछ कम हुआ तो उसने सोंचा कि जा कर देखूं कि कार में कितनी खरोंच लगी है। कार के पास जा कर देखने पर उसके होश उड़ गये। उसे खुद पर बहुत गुस्सा आ रहा था। वह फूट – फूट कर रोने लगा। कार पर उसके बेटे ने खुरच कर लिखा था
Papa, I love you.

यह कहानी हमें यह सिखाती है कि किसी के बारे में कोई गलत राय रखने से पहले या गलत फैसला लेने से पहले हमें ये ज़रूर सोंचना चाहिये कि उस व्यक्ति ने वह काम किस नियत से किया है।
hindi story, कहानी, story, hindi kahani, kahaniya, hindi kahaniya, story in hindi

from hindi story, कहानी

motivational stories in hindi

एक 16 के लड़के ने अपनी मम्मी से कहा की मम्मी मुझे मेरे 18 सालवे के जन्मदिन पर क्या गिफ्ट दोगी
तो उस लड़के की मम्मी ने उस से कहा की जब तेरा 18 सालवा आएगा तो अलमारी के ऊपर देख लेना उसमे तेरा गिफ्टरहेगा अभी बता दूंगी तो गिफ्ट का मज़ा नहीं आएगा.
कुछ दिन बाद वो लड़का बीमार हो गया उसके मम्मी पापा उसको अस्पताल लेकर गए जाँच के बाद डॉक्टर ने लड़के के माता पिता से कहा की इसके दिल मै छेद है
ये अब २ महीने से जयादा नही जी पायेगा
2 साल भर बाद लड़का ठीक होकर घर गया तो उसे पता चला की उसकी माँ नही रही उसे ये पता चलते ही उसने अलमारी खोली और उसने देखा की अलमारी में एक गिफ्टपड़ा था
उसने जल्दी से वो गिफ्ट खोला उस गिफ्ट में एक चिठ्ठी थी उस चिट्टी में लिखा था की मेरे जिगर के टुकड़े अगर तू ये चिठ्ठी पढ़ रहा है तो तू बिलकुल ठीक होगा
तुजे याद है जब तू बीमार हुआ था तब हम तुजे अस्पताल लेकर गए थे डॉक्टर ने कहा की तेरे दिल में छेद है तो उस दिन मै बहुत रोई और फैसला किया की मेरा दिल तुजे दूंगी
याद है एक दिनतूने कहा था की मम्मी मुझे18 साल वे जन्मदिन परक्या दोगी तो बेटा मै तुजे अपना दिल दे रही हु उसको हमेशा संभाल कर रखना। …… हैप्पी बर्थडे बेटा '
एक माँ इसलिए मर गयी क्यों की उसका बेटा जी सके। .दुनिया में माँ से बड़ा दिल किसी का नही! माँ के दिल जैसा दुनिया मेँ कोई दिल नहीँ।.'
🌺🌺🌺Beautiful line for Mom...🌺🌺🌺'
🌸🌺अजीज़ भी वो है,🌺🌸'
🌺🌸नसीब भी वो है,🌸🌺 '
🌸दुनिया की भीड़ में करीब भी वो है,🌸'
🌺उनकी दुआ से चलती है जिंदगी क्योंकि ख़ुदा भी वो है, तकदीर भी वो है

hindi story, कहानी, story, hindi kahani, kahaniya, hindi kahaniya, story in hindi

from hindi story, कहानी
.