aaj fir whi

dard-bhari-shayari-aaj-fir-whi

आज फिर वही यादों का चित्रहार चला
कुछ पल तो रुका वो फिर उस पार चला
मैं रह गया इस पार बेक़रार कुछ उम्मीद लियें
वो कुछ और की उम्मीद में बेक़रार चला

Couple Shayari