aakhri khwahish shayari

aakhri khwahish shayari

bhul gaye ho tu bata do mujh ko
mujh main marne ki himmat aa gayi hai
भूल गए हो तो बता दो मुझ को
मुझ मैं मरने की हिम्मत आ गयी है

meri barsi huei aankhen meri rukhti huwi saansen
mujh se ab ye aksar kehti hai ke mohabbat ab nahi karna
मेरी बरसी हुई आँखें मेरी रुखति हुवी साँसें
मुझ से अब ये अक्सर कहती है के मोहब्बत अब नहीं करना

kamal ishq hai diwana ho gaya hoon main
ye kis ke haath se daman choda raha ho main
कमल इश्क़ है दीवाना हो गया हूँ मैं
ये किस के हाथ से दामन छोड़ रहा हो मैं

from khwahish shayari