aakhri sans tak intezar karu

aakhri-sans-tak-intezar-karu

बड़ी मुश्किल में हूँ कैसे इज़हार करू
वो तो खुशबू है कैसे गिरफ्तार करू
उसकी मोहब्बत में मेरा हक नही लेकिन
दिल करता है की आखरी साँस तक उसका इन्तजार करू

Intezar Shayari In Hindi