acha chalta hu dua me yaad rakhna

acha chalta hu dua me yaad rakhna

बह रही अजीब हैं नादान-ए-दिल की खवाइशया
रब अमल कुछ नहीं और दिल तलबगार हैं जन्नत का!

Jumma Mubarak Shayari