Andheri Raat Ke Pardon

Andheri Raat Ke Pardon

Inhin Gam Ki Ghataaon Se Khushi Ka Chaand Niklega,
Andheri Raat Ke Pardon Mein Din Ki Roshni Bhi Hai.
इन्हीं गम की घटाओं से खुशी का चांद निकलेगा,
अंधेरी रात के पर्दों में दिन की रौशनी भी है।

Woh Mila Toh Kahta Tha Ke Pilot Banunga Faraz,
Halat Aisi Hai Ki Makkhi Bhi Udayi Nahi Jati.
वो मिला तो कहता था कि पायलट बनूँगा फ़राज़,
हालत ऐसी है की मक्खी भी उड़ाई नहीं जाती।

from Shayari In Hindi- शायरी इन हिंदी