barish par shayari hindi mai

barish par shayari hindi mai

ग़म की बारिश ने भी तेरे नक़्श को धोया नहीं
तू ने मुझ को खो दिया पर मैं ने तुझे खोया नहीं.
Gam Ki Barish Ne Bhi Tere naksh Ko Dhoya Nahi,
Tu Ne Mujh Ko Kho Diya Par Me Ne Tujhe Khoya Nahi

सुना है बारिश में दुआ क़बूल होती है
अगर हो इज्जाजत तो मांग लू तुम्हे
Suna Hai Barish Me Duwa kabul Hoti Hai,
Agar Ho Ejajat To Mang Lu Tumhe

from Barish Shayari