barish romantic shayari status

barish-romantic-shayari-status

बरसात का मज़ा तेरे गेसू दिखा गए,
अक्स आसमान पर जो पड़ा अब्र छा गए.
Barsat Ka Maja Tere Gesu Dikha Gaye,
Aksh Aasman Par Jo Pada Abra Cha Gaya

भला काग़ज़ की इतनी कश्तियाँ हम क्यों बनाते हैं,
न वो गलियाँ कहीं हैं अब न वो बारिश का पानी है.
Bhla Kagaj Ki Etni Kastiyan Hum Kyu Bnate Hai,
Na Vo Galiyan Kahi Hai Ab na Vo Barish Ka Pani Hai.

from Barish Shayari