bewfa hai too shayari

bewfa-hai-too-shayari

कभी करीब तो कभी जुदा है तूं
जाने किस किस से खफा है तू
मुझे तो तुझ पे खुद से ज्यादा यकीं था
पर जमाना सच ही कहता था की बेवफा है तू
बेवफा शायरी

from Bewafa Shayari In Hindi