chand raat mubarak shayari

chand-raat-mubarak-shayari

ऐ चाँद उनको मेरा पैगाम कहना
खुशी का दिन और हसी की हर शाम कहना
जब वो देखे बहार आकर तो उनको मेरी तरफ से
मुबारक हो रमज़ान कहना

from Ramadan Mubarak