Chup Rahta Hai Pyaar Shayari Dard

dard-bhari-shayari-chup-rahta-hai-pyaar

बोलती है दोस्ती चुप रहता है प्यार
हंसाती है दोस्ती रुलाता है प्यार
मिलाती है दोस्ती जुदा करता है प्यार
फिर क्यों दोस्ती छोड़कर लोग करते है प्यार

bolati hai dosti, chup rahata hai pyaar
hansaati hai dosti rulaata hai pyaar
milaatee hai dosti juda karata hai pyaar
phir kyon dosti chhodakar log karate hai pyaar

akele hi gujarni padhti hai zindagi
aur tasaliyan dete hai jeena
अकेले ही गुजारनी पड़ती है ज़िन्दगी
और तसलियाँ देते है जीना

honto ki hakikat ko na sajmh hakihat
dil main utar ke dekh kitne toote hai hum
होंटो की हकीकत को न सज्मः हकीहत
दिल मैं उतर के देख कितने टूटे है हम

wo jinko dekh kar aankhon main asoon jate hai
wahi kuch log zindagi viraan kar jate hai
वो जिनको देख कर आँखों में आसूं जाते है
वहीं कुछ लोग ज़िन्दगी वीरान कर जाते है

from Dard Bhari Shayari