deep shayari on dosti

deep shayari on dosti

udaas ka ye patthar asoon se nam nahi hota
hazaron jugnu hai phir bhi andhera kam nahi hota
उदास का ये पत्थर असून से नाम नहीं होता
हजारों जुगनू है फिर भी अँधेरा कम नहीं होता
bohut se log dil kois tarah se mahefooz rakhte hai
koi barish ho to bhi kagaz nam nahi hota
बहुत से लोग दिल किस तरह से महफूज़ रखती है
कोई बारिश हो तो भी कागज़ नाम नहीं होता
bichadte waqt koi bad gumani dil main utar jati hai
ise bhi gum nahi hota mujhe bhi gum nahi hota
बिछड़ते वक़्त कोई बद गुमानी दिल में उतर जाती है
इसे भी गम नहीं होता मुझे भी गम नहीं होता

from Deep Shayari