deep shayari on life

deep shayari on life

sab ke honto pe tabassum tha mere katal ke baad
jane kya soch ke rotha raha hai katil mera
सब के होंठो पे तबस्सुम था मेरे काटल के बाद
जाने क्या सोच के रोता रहा है कातिल मेरा

phir bhi barbaad ho jaon to ho jane do
ek hasrat thi ke to mera muqaddar ban jaye
फिर भी बर्बाद हो जाओं तो हो जाने दो
एक हसरत थी के तो मेरा मुकद्दर बन जाये

asoon bahane se koi apna nahi hota
jo dil mohabbat larte hai wo kabhi rone nahi dete
आसूं बहाने से कोई अपना नहीं होता
जो दिल मोहब्बत लरते है वो कभी रोने नहीं देते

from Deep Shayari