dil ki baat shayari ke sath

dil ki baat shayari ke sath

rothu ge humse to jahen main zarur rakhna
mana karna hamari adat nahi aur judai humse bardast nahi
रूठो गे हमसे तो जहन में जरूर रखना
मन करना हमारी आदत नहीं और जुदाई हमसे बर्दाश्त नहीं

kab doge najat hamhe raat bhar ki tanhai se
aye ishq maaf kar meri umar hi kya hai
कब दोगे नजात हम्हे रात भर की तन्हाई से
ए इश्क़ माफ़ कर मेरी उम्र ही क्या है

kuch waqt ki rawani ne hamhe badal diya yun
mohabbat to ab bhi kayam hai par wafa chod di humne
कुछ वक़्त की रवानी ने हम्हे बदल दिया यूँ
मोहब्बत तो अब भी कायम है पर वफ़ा छोड़ दी हमने

from Shayari Dil Se