dosti ko samjha zindagi

dosti-ko-samjha-zindagi

भीतर भीतर कुछ बिखर गया ऐ यार
खून ऐ जिगर आँखों में उतर गया ऐ यार
तो दोस्ती को समझा बस दिल्लगी ऐ यार
में दोस्ती को समझा मेरी ज़िन्दगी ऐ यार

from Dosti Shayari - दोस्ती शायरी