Duniya Ek Traf Aur Romantic Shayari

shayari-shayri-sayr

duniya ek traf aur to ek traf kyuki
tu meri pri hai aur ye duniya bhut buri hai
दुनिया एक तरफ और to एक तरफ क्युकी
तू मेरी परी है और दुनिया बहुत बुरी है

mohabbat chod dene par dilon ko tod dete hai
azeeb dastoor hai saheb koi fatwa nahi hota
मोहब्बत छोड़ देने पर दिलों को तोड़ देते है
अजीब दस्तूर है साहेब कोई फतवा नहीं होता

abhi masrof hoon kafi fursat main suchunga tumhe
ke tujhe yaad rakhne main kya kya bhule hai hum
अभी मसरुफ हूँ काफी फुर्सत में सोचूंगा तुम्हे
के तुझे याद रखने में क्या क्या भूले है हम

wo mujhe se bichda to jaise bichad gayi zindgi
main zinda to hoon par zainda nahi raha
वो मुझे से बिछड़े तो जैसे बिछड़ गयी ज़िन्दगी
मैं ज़िंदा तो हूँ पर जैंडा नहीं रहा

jaan jab piyari thi marne ka shauk tha
ab marne ka shauk hai to katil nahi mil raha
जान जब प्यारी थी मरने का शौक था
अब मरने का शौक है तो कातिल नहीं मिल रहा

from Romantic Shayari