Famous Shayari In Hindi

famous shayari in hindi

mujh ki maloom hai jakham kitne gehre hai
siwaye muskurane ke koi aur chara bhi to nahi
मुझ की मालूम है जख्म कितने गहरे है
सिवाए मुस्कुराने के कोई और चारा भी तो नहीं

kuch munafiq bhi mere hakla ehbaab main the
jin maine mohabbat ki ilteza ki thi
कुछ मुनाफ़िक़ भी मेरे हकला एहबाब में थे
जिन मैंने मोहब्बत की इल्तेज़ा की थी

hum to phoolon ki tarah apni aadat se be bus hai
koi tod bhi de ti hum ise khushbo diya karte hai
हम तो फूलों की तरह अपनी आदत से बे बस है
कोई तोड़ भी दे तो हम इसे ख़ुश्बू दिया करते है

from Famous Shayari