gam ke aansoo shayari

gam-ke-aansoo-shayari

दर्द से हाथ ना मिलते तो और क्या करते
गम के आँसू ना बहाते तो और क्या करते
उसने मांगी थी हमसे रौशनी की दुआ
हम खुद को ना जलाते तो और काया करते
rula dene wali shayari, रुला देने वाली शायरी

Rula Dene Wali Shayari