gam shayari apne hi

gam-shayari-apne-hi

लूट लेते है अपने ही वरना गैरो को क्या पता
इस दिल की दीवार कमज़ोर कहाँ है
gam shayari, गम शायरी, gam ki shayari, gam bhari shayari

from Gam Shayari - गम शायरी