gam shayari apne hi

gam-shayari-apne-hi

लूट लेते है अपने ही वरना गैरो को क्या पता
इस दिल की दीवार कमज़ोर कहाँ है
gam shayari, गम शायरी, gam ki shayari, gam bhari shayari

from Gam Shayari In Hindi