gussa shayari for husband

gussa shayari for husband

mohabbat ek khusbo hai jo hamesha saath chalti hai
koi insaan tanahi main bhi akela nahi hota
मोहब्बत एक खुसबो है जो हमेशा साथ चलती है
कोई इंसान तनहि मैं भी अकेला नहीं होता

ishq ka chut ka kuch dil pe asar ho to sahi
dard kam ho ye zayda ho par ho to sahi
इश्क़ का चुत का कुछ दिल पे असर हो तो सही
दर्द कम हो ये ज़ायदा हो पर हो तो सही

apne hi samjhte hai tumhe diljana hum tumko
dushman ko kabhi dil main rakah hi nahi hai
अपने ही समझते है तुम्हे दिलजाना हम तुमको
दुश्मन को कभी दिल मैं रकह ही नहीं है

from Gussa Shayari