ggusse wali shayari hindi

gusse wali shayari hindi

sirf iske hont kagaz par bana deta hoon
khud bana leti hai honto par hasi apni jagah
सिर्फ इसके होंट कागज़ पर बना देता हूँ
खुद बना लेती है होंठों पर हसी अपनी जगह

1 safar main koi dubara nahi mil sakta
ab dubara teri chahat nahi ki ja sakti
1 सफ़र मैं कोई दुबारा नहीं मिल सकता
अब दुबारा तेरी चाहत नहीं की जा सकती

mujh se nafrat wajib hai tumhe
ye na karoge to mohabbat ho jayegi
मुझ से नफरत वाजिब है तुम्हे
ये न करोगे तो मोहब्बत हो जायेगी

from Gussa Shayari