hum nadan the

shayari-sangrah-hum-nadan-the

हम नादान थे जो उसको अपना हमसफर समझ बैठें
वो चलते तो हमारे साथ थे,मग़र किसी ऒर कि तलाश मेँ
shayari sangrah, शायरी संग्रह

from Shayari Sangrah