Husn Walon Ko Sanwarne Ki Jarurat Kya Hai

husn-walon-ko-sanwarne-ki-jarurat-kya-hai

Husn Walo Ko Sanwarne Ki Jarurat Kya Hai
Woh Toh Saadgi Mein Bhi Qayamat Ki Adaa Rakhte Hain
हुस्न वालों को संवरने की क्या जरूरत है
वो तो सादगी में भी क़यामत की अदा रखते हैं
Shayari Hindi

Hain Honthh Uske Kitaabon Mein Likhi Tehreeron Jaise
Ungali Rakho Toh Aage Parhne Ko Jee Chahta Hai
हैं होंठ उसके किताबों में लिखी तहरीरों जैसे
ऊँगली रखो तो आगे पढ़ने को जी करता है
Shayari Hindi

Tera Khayal Teri Talab Aur Teri Aarzoo
Ek Bheed Si Lagi Hai Mere Dil Ke Shahar Mein
तेरा ख़याल तेरी तलब और तेरी आरज़ू,
इक भीड़ सी लगी है मेरे दिल के शहर में
Shayari Hindi

Dil Leke Muft Kahte Hain Kuchh Kaam Ka Nahi
Ulti Shikayatein Huin Ahsaan Ho Gaya
दिल लेके मुफ्त कहते हैं कुछ काम का नहीं
उल्टी शिकायतें हुईं अहसान तो गया
Shayari Hindi

from Hindi Shayari - हिंदी शायरी