Painful Shayari Jab Wo Zuda Hota Hai

dard-bhari-shayari-jab-wo-zuda-hota-hai

दोस्त दोस्त नहीं खुदा होता है
महसूस होता है जब वो जुदा होता है
बिना दोस्त के जीना सजा होता है
और दोस्त तुम जैसा हो तो जीवन में मज़ा होता है

jo pal pal chalati rahe, use zindagi kahate hai
jo harapal jalati rahe, use roshani kahate hai
jo palapal khilati rahe, use mohabbat kahate hai
jo saath na chhode kabhi, use dosti kahate hai

karne lage jab shikwa usse uski bewafai ka
rakh kar hont ko hont se khamosh kar diya
करने लगे जब शिकवा उससे उसकी बेवफाई का
रख कर होंट को होंट से खामोश कर दिया

bichad gaye hum dono anaa ko bich main la kar
use mera mujhe uska khusaar mar dale ga
बिछड़ गए हम दोनों को बिच मैं ल कर
उसे मेरा मुझे उसका खुसार मार डाले गए

mar ke kisi ko kiya ilzaam de apni maut ka
yahan satane wale bhi apne hai aur dafnane wale bhi apne hai
मर के किसी को किया इलज़ाम दे अपनी मौत का
यहाँ सताने वाले भी अपने है और दफ़नाने वाले भी अपने है

from Dard Bhari Shayari