jeet ke khatir

jeet-ke-khatir-izhaar-shayari

जीत की खातिर बस जुनून चाहिए
जिसमे उबाल हो ऐसा खून चाहिए
यह आसमान भी आएगा जमीन पर
बस इरादों मे जीत की गूँज चाहिए

Izhaar Shayari - इजहार शायरी