Kahte Hain Ummid Pe Jeeta Hai

Kahte Hain Ummid Pe Jeeta Hai

Kahte Hain Ummid Pe Jeeta Hai Zamana,
Kya Kare Jiski Koi Ummid Nahi Hai.
कहते हैं उम्मीद पे जीता है जमाना,
क्या करे जिसकी कोई उम्मीद नहीं है।

Haath Tute Maine Gar Chhedi Ho Zulfein Aap Ki,
Aap Ke Sar Ki Kasam Baad-e-Sabaa Thi Main Na Tha.
हाथ टूटें मैंने गर छेड़ी हों ज़ुल्फ़ें आप की,
आप के सर की क़सम बाद-ए-सबा थी मैं न था।

from Shayari In Hindi- शायरी इन हिंदी