khatm ho rhi hai

shayari-ki-diary-khatm-ho-rhi-hai

लम्हा लम्हा सांसें ख़तम हो रही हैं,
ज़िंदगी मौत के पहलू में सो रही है,
उस बेवफा से ना पूछो मेरी मौत की वजह
, वो तो ज़माने को दिखाने के लिए रो रही है
शायरी की डायरी, शायरी की डायरी फोटो,
shayari ki dayari, शायरी की दुनिया

from Shayari Ki Dayari - शायरी की डायरी,