khwahish shayari image

khwahish shayari image

bus khatam kardi ishq ki baazi dost
muqaddar ke haare kabhi jeeta nahi karte
बस खत्म करदी इश्क़ की बाज़ी दोस्त
मुक़द्दर के हारे कभी जीते नहीं करते

kitaben ishq ki pad kar na samjho khud ko ashiq tum
ye dil walo ka kaam hai dil walo par chod do to accha hai
किताबें इश्क़ की पड कर न समझो खुद को आशिक तुम
ये दिल वालो का काम है दिल वालों पर छोड़ दो तो अच्छा है

ashul ishq itna hai jhuka ke sir hukum manu
kya kahu baat karne maheboob kahfa ho jata hai
आशुल इश्क़ इतना है झुका के सर हुकुम मनु
क्या कहुँ बात करने महेबूब खफा हो जाता है

from khwahish shayari