Romantic Shayari Kuch To Mere Paas

shayari.net-kuch-to-mere-paas

तकलीफ़ मिट गई मगर एहसास रह गया
ख़ुश हूँ कि कुछ न कुछ तो मेरे पास रह गया
takaleef mit gae lekin ehasaas rah gaya
khush hoon ki kuchh na kuchh to mere paas rah gaya

bichadne walo ne patthar bana diya aisa
ke ab kisi se mil kar bhi khushi nahi hoti
बिछडने वालो ने पत्थर बना दिया ऐसा
के अब किसी से मिल कर भी ख़ुशी नहीं होती

milta bhi nahi tumhare jaise is saher man
humko kiya maloom tha ke tum bh kisi aur ke ho
मिलता भी नहीं तुम्हारे जैसे इस शहर में
हमको किया मालूम था के तुम बह किसी और के हो

kal raat wo shaks mere khuwabo ka bhi katal kar gaya
log kitna muqaam rakhte hai chod jane ke baad
कल रात वो शख्स मेरे खवाबो का भी काटल कर गया
लोग कितना मुक़ाम रखते है छोड़ जाने के बाद

wabasta ho gayi thi kuch umeedei aap se
umeedon chiraag bhujane shukriya
वाबस्ता हो गयी थी कुछ उम्मीदें आप से
उमीदों चिराग भुजने शुक्रिया

from Romantic Shayari In Hindi