Love Shayari Kya Nhi Kiya Hoga

love-shayari-kya-nhi-kiya-hoga

मुझे भुलाने को उसने क्या क्या नही किया होगा
बहते आंसुओ से खुद का दामन भिगो दिया होगा
साथी ने पुछा होगा कमी क्या है तुमको अब इस घर में
किसी दर्द का बहाना करके उसने चेहरा छुपा लिया होगा

mujhe bhulaane ko usane kya kya nahi kiya hoga
bahate aansuo se khud ka daaman bhigo diya hoga
saathee ne puchha hoga kami kya hai tumako ab is ghar mein
kisee dard ka bahaana karake usane chehara chhupa liya hoga

piyar tha mohabbat thi ishq tha adaa thi
agar wafa bhi hoti to qayamat tha wo shaks
प्यार था मोहब्बत थी इश्क़ था अदा थी
अगर वफ़ा भी होती तो क़यामत था वो शख्स

aansoon utha lete hai mere gumo ka bojh
ye wo dost hai jo insaan jaya nahi karte
असून उठा लेते है मेरे गमों का बोझ
ये वो दोस्त है जो इंसान जाया नहीं करते

tum mujhe jitni izzat de sakte the de di
ab tum dekho mera sabar aur meri khamoshi
तुम मुझे जितनी इज़्ज़त दे सकते थे दे दी
अब तुम देखो मेरा सबर और मेरी ख़ामोशी

from Love Shayari In Hindi