Kyu Meri Tarah Raaton Ko

Kyu Meri Tarah Raaton Ko

Kyun Meri Tarah Raaton Ko Rahta Hai Pareshaan,
Ai Chaand Bata Kis Se Teri Aankh Ladi Hai.
क्यूँ मेरी तरह रातों को रहता है परेशाँ,
ऐ चाँद बता किस से तेरी आँख लड़ी है।

Qayamat Shayari