kyu nhi hota

dard-bhari-shayari-kyu-nhi-hota

मुझे समझने का दौर कभी क्यूँ नही होता
मुझसा मजबूर कभी तू क्यूँ नहीं होता
क्या फ़र्क़ है तेरी वफ़ा और मेरी वफ़ा में
मुझे बेहिसाब हो तुझे दर्द क्यूँ नहीं होता

mujhe samajhane ka daur kabhi kyoon nahi hota
mujhasa majaboor kabhi too kyoon nahin hota
kya farq hai teri vafa aur meri vafa mein
mujhe behisaab ho tujhe dard kyoon nahin hota

from Dard Bhari Shayari