Latest Shayari In Hindi

latest shayari in hindi

mizaj yaar ka mere zara aankho main to dekh
safed jhut be jalim zubaan hai
मिज़ाज यार का मेरे ज़रा आँखों मैं तो देख
सफ़ेद झूट बे जालिम जुबां है

gairon ki baat aur hai aakhir wo gair hai
tum apna samjh kar apne ko gair na kro
गैरों की बात और है आखिर वो ग़ैर है
तुम अपना समझ कर अपने को गैर न करो

hum to tehre huwe hai paani main kisi chand ki tarah
jis ko bhi acche lage usne patthar pheka
हम तो ठहरे हुवे है पानी मैं किसी चाँद की तरह
जिस को भी अच्छे लगे उसने पत्थर फेंका

udaasi jin ke dilon main hoon neend usi ki udti hai
kisi ko apni aankho ka koi sapna nahi hota
उदासी जिन के दिलों मैं हूँ नींद उसी की उड़ती है
किसी को अपनी आँखों का कोई सपना नहीं होता

khushi aur dukh ke mausam sab ke andar hote hai
kisi ko apne hisse ka koi lamha nahi deta
ख़ुशी और दुःख के मौसम सब के अंदर होते है
किसी को अपने हिस्से का कोई लम्हा नहीं देता

from Latest Hindi Shayari Collection