Mai Teri Aaghosh Me New Romantic Shayari

romantics-shayari-mai-teri-aaghosh-me

waqt fir whi khani dohra rha hai
mai teri aaghosh me sma rhi hoon too mere aagosh me sma rha hai
वक़्त फिर वही खानी दुहरा रहा है
मै तेरी आगोश में स्म रहा हूँ तू मेरी आगोश में समा रहा है

tamaam umar ki aarzo pe bhari tha
wo ek sab jo teri yaad main gujar gayi
तमाम उम्र की आरजू पे भारी था
वो एक सब जो तेरी याद मैं गुजर गयी

chand ke roop main aate hi nahi tum
gum ki raaton main azab jans bahar hota
चाँद के रूप में आते ही नहीं तुम
गम की रातों मैं अज़ाब जनस बहार होता

bhul jana to duniya ka rasam hai dost
tumne bhula diya to kon ka kamaal kar diya
भूल जाना तो दुनिया का रसम है दोस्त
तुमने भुला दिया तो कोण का कमाल कर दिया

umar bhar likhte rahe phir bhi warak sada raha
jane kiya lafz the jo hum likh nahi paye
भर लिखते रहे फिर भी वारक सदा रहा
जाने किया लफ्ज़ थे जो हम लिख नहीं पाये

from Romantic Shayari