mazdoor shayari

mazdoor-shayari

सो जाते हैं फुटपाथ पे अख़बार बिछाकर
मज़दूर कभी नींद की गोली नहीं खाते
मजदूर दिवस शायरी

from Labour Day Shayari - मजदूर दिवस