mohabbt shayari tere man ki

mohabbt-shayari-tere-man-ki

मैं ख़ामोशी तेरे मन की, तू अनकहा अलफ़ाज़ मेरा
मैं एक उलझा लम्हा, तू रूठा हुआ हालात मेरा

from Mohabbat Shayari - मोहब्बत शायरी