new shayari rone lga

new-shayari-rone-lga

यूँ तो सदमो में भी हंस लेता था मै
आज क्यूँ बेवजह रोने लगा
बरसो से हथेलिय खली ही रही मेरी
फिर आज क्यू लगा सब कुछ खोने लगा
new shayari, latest shayari, sher shayari, लेटेस्ट शायरी

New Shayari In Hindi