Rishte Kharab Hone Hindi Sad Shayari

sad-shayari-rishte-kharab-hone

rishte kharab hone ki ek wjah ye bhi hai
ki log jhukna psand nhi karte
रिश्ता करब होने की एक वजह ये भी है
की लूग झुकना पसन्द नही करते

tari yaadein bohut satati hai magar
tumse humko koi gila nahi hai
तेरी यादें बहुत सताती है मगर
तुमसे हमको कोई गिला नहीं है

andesha bhi bohut tha aur ikhteray bhi bohut ki
hote hote wo shaks aakhit juda ho hi gaya
छोड़ा तो है इसे मगर छोड़ा है इस तरह
देता फिरेगा मेरे हवाले तमाम उम्र

aa gaya roz apne dil samjhana mujhe
aap ki ye burukhi kis kaam ki rhe jayagi
आ गया रोज़ अपने दिल समझाना मुझे
आप की ये बुरुखी किस काम की रहे जायगी

wo hazron ke saath rehta hai ise kya gum mera
kash hamhe bhi aadat hoti har ek se pyar karne ki
वो हज़रों के साथ रहता है इसे क्या गम मेरा
काश हम्हे भी आदत होती हर एक से प्यार करने की

from Sad Shayari - सैड शायरी