romantic barish shayari for girlfriend

romantic barish shayari for girlfriend

अबके बरसात की रुत और भी भड़कीली है
जिस्म से आग निकलती है, क़बा गीली है.
Abke Barst Ki Rut Aur Bhi Bhdkili Hai
Jism Se Aag Niklti Hai Kaba Gili Hai

बरसात की भीगी रातों में फिर कोई सुहानी याद आई
कुछ अपना ज़माना याद आया कुछ उनकी जवानी याद आई
Barsat Ki Bhigi Raton Me Fir Koi Suhani Yad Aai
Kuch Apna Zamana Yad Aaya Kuch Unki Jvani Yad Aae

from Barish Shayari