samna na ho kabhi

"सदा दूर रहो ग़म की परछाइयों से, सामना ना हो कभी तन्हाइयों से, हर अरमान हर ख़्वाब पूरा हो आपका, यही दुआ है दिल की गहराइयों से"

from Naye Saal Ki Shayari