shayari dil se dil tak

shayari dil se dil tak

do din ki zindagi hai apne ushulo par gujar do
raho to phoolon ki tarah bhikro to khushbo de jao
दो दिन की ज़िन्दगी है अपने ुशुलो पर गुजर दो
रहो तो फूलों की तरह भीकरो तो खुशबू दे जाओ

jane wo kis baat se humse naraz hai
sapne main aata hai to baat bhi nahi karte
जाने वो किस बात से हमसे नाराज़ है
सपने में आता है तो बात भी नहीं करते

mohabbat main humse koi gunha na ho jaye
islye hum har kadam tere baad rakhte hai
मोहब्बत मैं हमसे कोई गुन्हा न हो जाये
इसलिए हम हर कदम तेरे बाद रखते है

kisi ki yaad main itna udaas na huwa kar
log naseeb se milte hai udashiyon se nahi
किसी की याद मैं इतना उदास न हुवा कर
लोग नसीब से मिलते है उदाशियों से नहीं

Read More