shayari hi shayari latest post

latest post shayari hi shayari

nawab bhi hamare shauk ka andaza nahi laga sakte
hum aayina zameen par rakh aasman chum liya karte hai
नवाब भी हमारे शौक का अंदाज़ा नहीं लगा सकते
हम आईना ज़मीं पर रख आसमान चूम लिया करते है

zamane main sab se juda alag pehchan rakhte hai
jo sahabiyon ne rakh tha hum wo imaan rakhte hai
ज़माने मैं सब से जुडा अलग पहचान रखते है
जो सहबियों ने राख था हम वो ईमान रखते है

ek tere siva hum kis aur ke kaise ho sakte hai
tum khud hi dekh kar batao tumhare jaisa koi hai kya
एक तेरे सिवा हम किस और के कैसे हो सकते है
तुम खुद ही देख कर बताओ तुम्हारे जैसा कोई है क्या

ye to nahi ki tum sa jahan main koi nahi
dil ka kya kro ye bahelta kahi nahi
ये तो नहीं की तुम सा जहान मैं कोई नहीं
दिल का क्या करो ये बहलता कही नहीं

khuwab saari raat jannat ki sher karta hoon
jab aankh kholti hai to maa ke kadmo main tha
खुवाब सारी रात जन्नत की शेर करता हूँ
जब आँख खुलती है तो माँ के क़दमों में था

talash karta hoon main tujhe teri gali main
aur mere pass tere ghar ka pata nahi
तलाश करता हूँ मैं तुझे तेरी गली में
और मेरे पास तेरे घर का पता नहीं

from Latest Hindi Shayari Collection