shayari on deep in hindi

shayari on deep

to roz har naye husn par marta hai
tu batayega mujhe ishq hai kya ye jane de
तो रोज़ हर नए हुस्न पर मरता है
तू बतायेगा मुझे इश्क़ है क्या ये जाने दे

fiza main zaher bikhra hai zara sabhal kar chalo
mukhallif aaj hawa hai zara sabhal kar chalo
फ़िज़ा मैं ज़हर बिखरा है ज़रा सभाल कर चलो
मुखालिफ आज हवा है ज़रा सभाल कर चलो

nahi mohabbat ki hakikat aaj ke daur main
hawas ko bhuja ka log aaj isse mohbbat ka naam dete hai
नहीं मोहब्बत की हकीकत आज के दौर में
हवस को भुजा का लोग आज इसे मोहब्बत का नाम देते है

from Deep Shayari