Romantic Shayari On Khubsurti

shayari-on-khubsurti

तेरी खूब सुरती जैसे बारिश के बाद पत्तो पे ठहरा हुआ पानी

mera kiya haal tere bina kabhi dekh le
ji raha hoon tera bhula huwa wada ban kar
मेरा किया हाल तेरे बिना कभी देख ले
जी रहा हूँ तेरा भुला हुवा वडा बन कर

root jane ki adaa hum bhi aati hai
par kash koi hota mujhe bhi manane ke kiye
रुट जाने की अदा हम भी आती है
पर काश कोई होता मुझे भी मानाने के किये

kuch aise hasde zindagi main hote hai
ke insaan to bach jata hai magar zinda nahi rehta
कुछ ऐसे हस्दे ज़िन्दगी मैं होते है
के इंसान तो बच जाता है मगर ज़िंदा नहीं रहता

mujh ko samjhaya na karo ab to ho chuki hoon mujh main
mohabbat mashwara hoti to tum se puch leta
मुझ को समझाया ना करो अब तो हो चुकी हूँ मुझ मैं
मोहब्बत मशवरा होती तो तुम से पूछ लेता

from Romantic Shayari In Hindi