Sirf Tune Hi Kabh Shayari On Romantic

romantics-shayari-sirf-tune-hi-kabh

sirf tune hi kabhi mujhko apna na samjha
zmana to aaj bhi mujhe tera dewana kahta hai
सिर्फ तुमे ही कभी मुझे अपना न समझा
जमाना to आज भी मुझे तेरा देवाना कहता है

bewafa watq ths tum the ya muqaddar mera
baat itni hai ke anjaam judai hi nikla
बेवफा वटक थस तुम थे या मुकद्दर मेरा
बात इतनी है कि अंजाम जुदाई ही निकला

najar ka fark hota hai husn ka nahi
sanam jiska bhi ho wo uske liye be misaal hota hai
नज़र का फर्क होता है हुस्न का नहीं
सनम जिसका भी हो वो उसके लिए बे मिसाल होता है

isliye jamane main ajnabi hoon main
saare log farishty hai aur ajnabi hoon main
इसलिए ज़माने मैं अजनबी हूँ मैं
सारे लोग फ़रिश्ती है और अजनबी हूँ मैं

naraz tum naraz hum kaise mite phir ye dooriyan
hum muntazar tum be khabar dono ki hai mazboriyan
नाराज़ तुम नाराज़ हम कैसे मिटे फिर ये दूरियां
हम मुंतज़र तुम बे खबर दोनों की है मज़बूरियां

from Romantic Shayari