trasha hai bhu love shayari

trasha-hai-bhu-love-shayari

मेरे हाथों की लकीरों के इज़ाफ़े हैं गवाह
मैने पत्थर की तरह खुद को तराशा है बहुत
mere haathon ki lakeeron ki ezafe hai gawah
maine patthar ki tarah khud ko tarasha hai bahut

from Love Shayari In Hindi